युवाओ ने ऑनलाइन ठगी को बनाया रोजगार का जरिया,करोडो का लगा चुके है चूना, अंधी कमाई से नशे की ओर बढ़ते कदम, प्रशासन अनजान

नरेन्द्र त्रिपाठी ब्यूरोचीफ जालौन की रिपोर्ट:

आप जैसे ऐसे कई लोग होंगे जो ऑनलाइन कंपनियों से ठगी के शिकार कभी ना कभी हुए होंगे

लेकिन आप यह सुनकर हैरान हो जाएंगे जिला जालौन में कैसे ये अपने पैर पसार चुके है कुछ समय पहले कि बात है कुछ लड़के ये काम करते थे उनके महंगे शौक और विलासिता पूर्ण जिन्दगी के सपने इनको इस हद तक ले आये , इन्होने अपना मुख्य अड्डा कानपुर बनाया ,जब ये अपनी महंगे शौक को पूरा काम करने के लिए काम करने लगे जब इनका काम बढ़ गया तो इन लोगो ने अपने लड़के नियुक्त क्र लिए जो कमीशन पर इनकि डिलीवरी उठाने का काम किया करते है , ये वो लड़के है जिनको जल्दी पैसा कमाना है और अपने शौक पूरे करने है तो इनके साथ ४० से ५० लड़के काम करने लगे  जब  युवा ऑनलाइन कंपनियों को भी चूना लगा रहे हैं

 महत्वपूर्ण बात ये है कि जब इनकी काली कमी बंद हो जायगी तब ये अपने शौक पूरा करने के लिए  कौन सा क्राइम का रास्ता अपनायंगे

अब आपको बताएं किए युवा कैसे ऑनलाइन कंपनियों को चूना लगाते हैं

युवा फर्जी ID की सिम का यूज़ करते हैं और अलग-अलग पते पर महंगे-महंगे मोबाइल फोन मंगाते हैं उसके बाद कंपनी में क्लेम करते हैं कि कि हमने जो मोबाइल मंगाया था उस मोबाइल के डिब्बे में रेत और पत्थर भरे मिले और कंपनी से अपना पैसा रिफंड करवाने की मांग करते हैं शुरुआत में जब यह नामी गिरामी कंपनी अपनी बदनामी के डर से उनका 1मोबाइल सेट का  फंड ट्रांसफर कर देती है तो इन्हें युवाओं के हौसले बुलंद हो जाते हैं  यह युवा फर्जी ID वाली SIM से कंपनी को फोन करते हैं अलग-अलग नंबरों से फोन करते हैं और हर बार एक नया पता बताते हैं

जयपुर, नॉएडा, दिल्ली चंडीगढ़ , उज्जैन , इंदौर , ग्वालियर ,गुरुग्राम, कानपुर लखनऊ आगरा हर जगह पर कमरा किराए पर ले लेते हैं और जिस जगह वह किराए पर कमरा लेते हैं वही का पता कंपनी को बताते हैं कंपनी को पुख्ता सबूत ना मिलने के कारण इनके ऊपर ऑनलाइन कंपनियां कार्यवाही नहीं कर पा रही हैं

10/2017 का एक वाकया सामने आया है

दिल्ली पुलिस के हत्थे दो ऐसे अपराधी चढ़े हैं, जिन्होंने 166 मोबाइल फोन्स की चोरीकर ऐमजॉन को चूना लगाया। उत्तर पश्चिमी दिल्ली के त्रिनगर इलाके से दो यवकों को अरेस्ट किया, जिन्होंने ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी ऐमजॉन के साथ लाखों रुपयों की धोखाधड़ी की। पकड़े गए दोनों युवकों में से मुख्य आरोपी का नाम शिवम बताया जा रहा है, जिसके पास से 166 महंगे मोबाइल फोन, 150 सिम कार्ड और कुछ निवेश के दस्तावेज बरामद किए गए हैं। 

 

मुख्य आरोपी शिवम की उम्र 21 साल बताई जा रही है। उसने दिल्ली में ऐमजॉन स्टोर से 166 मोबाइल फोन खरीदे और खाली डिब्बा पहुंचने की शिकायत कर रिफंड लेता रहा। पुलिस ने बताया कि इस साल अप्रैल से मई के बीच उसने 50 लाख रुपये बनाए। जब ऐमजॉन को किसी धोखाधड़ी कता शिकार होने का शक हुआ तो पुलिस शिकायत की गई, जिसके बाद जांच में यह खुलासा हुआ।

इस विषय मैनेजिंग एडिटर विनय व्यास से रवि देसाई की बात हुयी जो कि AMAZON इंडिया के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर है उन्होंने बताया है कि उनके आईटी सेल कि टीम और पुलिस कि सहायता से जांच की जा रही है

SHARE