बोले वेंकैया :भाजपा मेरी मां है

उपराष्ट्रपति पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद एनडीए के उम्मीदवार वेंकैया नायडू ने कहा कि वह इस उच्च संवैधानिक पद की मर्यादा एवं गरिमा को बरकरार रखेंगे। भाजपा को अपनी मां बताते हुए उससे बिछुड़ने की पीड़ा को भी बयां किया। उन्होंने कहा कि भारत की सबसे बड़ी ताकत संसदीय लोकतंत्र हैं। उपराष्ट्रपति पद के अपने दायित्व हैं और कार्य की मर्यादाएं हैं।

उन्होंने कहा कि इस पद पर सर्वपल्ली राधाकृष्णन, डॉ. ज़ाकिर हुसैन, मोहम्मद हिदायतुल्ला, आर. वेंकटरमण, डॉ. शंकरदयाल शर्मा और भैरोंसिंह शेखावत आदि नेता रहे हैं। वह इन नेताओं द्वारा स्थापित गरिमापूर्ण परंपरा का निर्वाह करेंगे। उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी के अनिच्छुक होने की मीडिया रिपोर्टों को लेकर नायडू ने सफाई देते हुए कहा कि उनकी माँ का जब निधन हुआ था तब वह बहुत छोटे थे। उन्होंने भाजपा को अपनी माँ माना और उसकी सेवा करते हुए इस मुकाम तक पहुंचे हैं। इसलिए उन्हें इस पद पर आने के बाद पार्टी से दूर होने की पीड़ा है।

SHARE