कानपुर के जाजमऊ से आईएसआईएस के दो संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार

नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी (एनआईए) ने मंगलवार को जाजमऊ में छापेमारी कर आईएसआईएस के दो संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया है। इनमें लखनऊ एनकाउंटर में मारे गए आतंकी सैफउल्लाह का चचेरा भाई भी है। एनआईए ने दावा किया है कि दोनों खुरासान मॉड्यूल से जुड़े हुए हैं।
एनआईए की टीम सुबह करीब 11 बजे जाजमऊ के मनोहर नगर में आतंकी सैफउल्लाह के ताऊ शाहिद इकबाल के घर पहुंची। टीम ने शाहिद के बेटे आसिफ इकबाल को दबोच लिया। उसके बाद आसिफ की निशानदेही पर बंगाली घाट से शाहिद परवेज अख्तर और उसके दो बेटों मोहम्मद आतिफ व आकिब को हिरासत में ले लिया। चारों से चकेरी के एक होटल में लंबी पूछताछ की गई। देर शाम कागजी कार्रवाई व पूछताछ करने के बाद एनआईए ने आसिफ व आतिफ की गिरफ्तारी घोषित कर दी। एनआईए के मुताबिक गिरफ्तार किए गए दोनों लोगों को बुधवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।
होटल में पूछताछ के बाद एनआईए ने परवेज व आकिब से कई कागजातों पर दस्तखत कराए। उसके बाद दोनों को छोड़ दिया। एनआईए ने दावा किया है कि दोनों आईएसआईएस से जुड़े हुए हुए थे और आपराधिक गतिविधियों में लिप्त थे। गुपचुप तरीके से आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की योजना बना रहे थे। परवेज व उनका परिवार घर में ताला डालकर गायब हो गया है।

House

चमनगंज व बेकनगंज में भी तहकीकात
एनआईए की टीम ने आसिफ और आतिफ को लेकर करीब एक घंटे तक चमनगंज व बेकनगंज में भी तहकीकात की। सूत्रों के मुताबिक दोनों ने अपने अन्य दो दोस्तों के बारे में जानकारी दी है। ये लोग चमनगंज व बेकनगंज के रहने वाले हैं। एनआईए को आशंका है कि बम बनाने का कुछ सामान यहीं से खरीदा गया है। इसके बारे में एनआईए ने जानकारी जुटाई है।
अजहर का खंगाला घर
संदिग्ध आतंकियों को बांसमंडी निवासी अजहर ने असलहा उपलब्ध कराया था। एटीएस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था। मंगलवार को एनआईए की टीम ने एक बार फिर उसके घर पर छापेमारी की। इस दौरान टीम ने उसके पिता समेत अन्य परिवारीजनों से पूछताछ की। वहीं कुछ कागजात भी अपने साथ लेकर गई है।

SHARE