आज बन रहा है साल का सबसे शुभ संयोग, ऐसे उठाएं लाभ

आज बन रहा है साल का सबसे शुभ संयोग, ऐसे उठाएं लाभ

हिन्दू धर्म ग्रंथों में पुष्य नक्षत्र को सबसे शुभकारक नक्षत्र माना जाता है. मान्यता है कि इस शुभ दिन पर संपत्ति और समृद्धि की देवी माँ लक्ष्मी का जन्म हुआ था. जब भी गुरुवार अथवा रविवार के दिन पुष्य नक्षत्र आता है तो इस योग को क्रमशः गुरु पुष्य नक्षत्र और रवि पुष्य नक्षत्र के रूप में जाना जाता है. यह योग अक्षय तृतीया, धन तेरस, और दिवाली जैसी धार्मिक तिथियों की भांति ही शुभ होता है.  पुष्य नक्षत्र के दौरान किए जाने वाले कार्यों से जीवन में समृद्धि का आगमन होता है. इस दिन ग्रहों के अनुकूल स्थितियों में भ्रमण कर रहे होने से सारे बिगड़े हुए काम बन जाते हैं.

9 नवंबर को साल 2017 का सबसे शुभ संयोग बन रहा है. पुष्य नक्षत्र के गुरुवार के दिन पड़ने पर इस तरह का योग बनता है जिसे बहुत शुभ माना जाता है. 9 नवंबर को दोपहर 1 बजकर 39 मिनट पर गुरु पुष्य नक्षत्र लगेगा और अगले दिन सुबह 6.09 बजे तक रहेगा. यानी यह शुभ संयोग करीब 16 घंटे और 30 मिनट रहेगा. ऐसा संयोग 2-3 साल में एक बार ही आता है. इस शुभ योग में सारे रुके हुए काम पूरे हो जाते हैं. इस शुभ संयोग में किए कार्यों को सिद्धि व सफलता मिलती है. पुष्य नक्षत्र को ब्रह्याजी का श्राप मिला था, इसलिए यह नक्षत्र शादी-विवाह के लिए वर्जित माना गया है. इस नक्षत्र में देवगुरु बृहस्पति की आराधना करने से सारे बिगड़े हुए काम पूरे जाते हैं. ऐसी मान्यता है कि इस दिन अगर धन की देवी माता लक्ष्मी की पूजा की जाए तो धन की कमी कभी भी नहीं रहती हैं.

SHARE