दिल्ली में धड़ल्ले से हो रहे अवैध निर्माण पर SC सख्त, सील करने वाली समिति फिर बहाल

दिल्ली में धड़ल्ले से हो रहे अवैध निर्माण पर SC सख्त, सील करने वाली समिति फिर बहाल
राष्ट्रीय राजधानी में धड़ल्ले से हो रहे अवैध निर्माण पर चिंता जताते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि इमारतों के निर्माण की इजाजत देने में नियमों को पूरी तरह तोड़ा गया है। ऐसे निर्माण की पहचान और उन्हें सील करने के लिए शीर्ष अदालत ने 2006 की निगरानी समिति को बहाल करने का आदेश दिया है। शीर्ष अदालत की जस्टिस एमबी लोकुर और जस्टिस दीपक गुप्ता की बेंच ने दक्षिण दिल्ली के म्युनसिपल कमिश्नर को व्यक्तिगत तौर पर उसके समक्ष पेश होने का समन जारी किया है। बेंच ने दक्षिण दिल्ली के महरौली में अवैध कालोनी के निर्माण का गंभीरता से संज्ञान लिया है।
शीर्ष अदालत ने दिल्ली में अवैध परिसरों एवं निर्माण की पहचान और उन्हें सील करने के लिए निगरानी समिति की शक्तियां बहाल करने का फैसला किया है। 2012 में इसमें राहत दे दी गई थी। मामले की सुनवाई 14 दिसंबर तक आगे  बढ़ाते हुए पीठ ने कहा कि अवैध निर्माण से दिल्ली के पर्यावरण खासकर सीवर और पार्किंग व वेस्ट मैनेजमेंट से जुड़े मुद्दों पर बड़ा प्रभाव पड़ता है।

शीर्ष अदालत ने केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की ओर से पेश हुए अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल से यह सुनिश्चित करने में मदद मांगी कि जहां तक निर्माण गतिविधियों का संबंध है, आगे से कोई कानून न तोड़ा जाए। पीठ ने कहा कि महरौली की साई कुंज नाम की अनधिकृत कालोनी की ओर हमारा ध्यान दिलाया गया है। यह कॉलोनी दक्षिण दिल्ली म्युनसिपल कॉरपोरेशन (एसडीएमसी) के तहत आने वाली कृषि भूमि पर बनी है।

SHARE