TCS कर्मियों की मुसीबतें बढ़ीं , अधिकारी ने सुनाया जाने का फरमान

शुक्रवार को लखनऊ आए टीसीएस के अधिकारियों की सीएम से मुलाकात नहीं हो सकी और दूसरी ओर अधिकारी कम्पनी बंद करने का फरमान सुनाकर चले गए। उधर सीएम कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार 10 अगस्त के बाद टीसीएस के सीईओ से मुख्यमंत्री की मुलाकात होनी है और तब तक सरकार की ओर से कम्पनी की यथास्थिति बनाए रखने व कोई भी निर्णय न लेने के निर्देश दिए गए हैं। सरकार के तमाम वादों और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आश्वासन मिलने के बाद भी टीसीएस कर्मचारियों को कोई राहत नहीं मिली है बल्कि उनकी मुसीबतें और बढ़ती दिख रही हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को टीसीएस के वीपी हेड आलोक कुमार व कुछ अन्य अधिकारी यहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने आए थे। मगर इनकी मुलाकात सीएम से हो नहीं पाई। दरअसल सीएम ने कम्पनी के सीईओ व सीओओ को इस मुद्दे पर बात करने के लिए यहां बुलाया था लेकिन उनकी जगह वीपी हेड व अन्य जूनियर अफसरों को मिलने भेज दिया गया।

सूत्रों की मानें तो सीएम को यह बात नागवार गुजरी और उन्होंने जूनियर अधिकारियों से मिलने से मना कर दिया। इसके बाद कम्पनी के आला अधिकारियों और सीएम कार्यालय के बीच हुई बातचीत के बाद यह तय हुआ कि टीसीएस के सीईओ व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मुलाकात 10 अगस्त के बाद होगी। तब तक के लिए सरकार की ओर से टीसीएस अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि कम्पनी जैसे चल रही है, चलने दें और मुलाकात के बाद ही कोई निर्णय लिया जाए।
पूरे मुद्दे पर दो अलग-अलग बातें सामने आ रही हैं क्योंकि कर्मचारियों की मानें तो सचिवालय से लौटने के बाद अधिकारी टीसीएस ऑफिस पहुंचे और यहां खुले शब्दों में कहा कि लखनऊ से कम्पनी का जाना तय है। यहां सभी प्रोजेक्ट मैनेजर से कहा गया है कि दो हफ्तों में कर्मचारियों को नोएडा और इंदौर रिपोर्ट करना है। कर्मचारियों का यह भी कहना है कि उन पर ट्रांसफर लेने का दबाव बनाया जा रहा है और ऐसा न करने पर बाहर का रास्ता दिखाने की धमकियां तक मिल रही हैं।

SHARE