उत्तर प्रदेश : शामली की शुगर मिल में गैस रिसाव , 500 से ज्यादा स्कूली बच्चे बीमार

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शामली जिले में शुगर मिल में गैस रिसाव की वजह से 500 से ज्यादा बच्चे बीमार हो गए हैं। दो स्कूलों के बच्चे इस गैस रिसाव का शिकार हुए हैं। गैस रिसाव में 30 बच्चों की हालत गंभीर है, जिन्हें पास के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। शुगर मिल से कौन सी गैस रिसी है, जिससे ये बच्चेें बीमार हुए हैं इसको लेकर अभी कुछ सामने नहीं आया है। दरअसल शुगर मिल के कचरे को नष्ट करने के लिए डाले गए केमिकल से गैस का रिसाव हुआ जिसके बाद बच्चे बेहोश हो गए.

गैस रिसाव से पास के ही सरस्वती विद्या मंदिर व सरस्वती जूनियर हाई स्कूल के पांच सौ से ज्यादा बच्चे बेहोश हो गए। इस पूरे मामले में चीनी मिल की बड़ी सापरवाही सामने आयी है। यह चीनी मिल शहर के बीचो बीच स्थित है। लोग अपने घरों से बाहर निकल कर सुरक्षित जगह की ओर जा रहे हैं। शुगर मिल से कौन सी गैस रिसाव हुई और कितना नुकसान हुआ इसका आंकलन किया जा रहा है. इस गैस का सबसे ज्यादा असर बच्चों पर हुआ है। पुलिस प्रशासन मौके पर मौजूद है औऱ राहत एवं बचाव का कार्य जारी है।

मंगलवार सुबह जब शुगर मिल के पास के स्कूल में बच्चे बेहोश हुए तो स्कूल में अफरा-तफरी मच गयी। बच्चों को लेकर स्कूल के टीचर जिला अस्पताल व जिला अस्पताल और निजी अस्पतालों में पहुंचे। मामले की जानकारी मिलने पर अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और मामले की जानकारी ली। बीमार बच्चों की संख्या ज्यादा होने पर जिला अस्पताल से निजी अस्पतालों में बच्चों को रेफर किया गया। सभी बच्चों की हालत खतरे से बाहर होने की बात बताई गई है।  प्रशासन ने मामले की जांच की बात कही है।

शुगर मिल से कौन सी गैस लीक हुई है, इसको लेकर अभी ना प्रशासन और ना ही मिल के किसी अधिकारी ने कुछ कहा है। प्रशासन मामले की जांच के बाद ही कुछ कहने की बात कह रहा है। आपको बता दें कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश गन्ने की खेती के लिए जाना जाता है। अक्टूबर में गन्ने की पेराई शुरू हो जाती है। ऐसे में अब चीनी मिल के सत्र की तैयारियां की जा रही हैं।

SHARE