इस यूनिवर्सिटी के कैम्पस में स्थापित की गयी “चोटीकटवा बाबा” की मूर्ति,की जा रही चोटी बचाने की मन्नतें

वाराणसीःएक महीने से चोटी काटने का आतंक जहां पूरे देश में है। वहीं बनारस में अंधविश्वास का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे सुनकर आप भी हैरत में पढ़ जाएंगे। विश्व भर में मशहूर हिन्दू यूनिवर्सिटी कैम्पस में चोटी कटवा बाबा को स्थापित कर लोग बड़ी निष्ठा के साथ पूजा-पाठ कर रहे है। इसी के साथ ही बाबा से चोटी बचाने की मन्नतें भी मांगी जा रही है।

बीते कुछ दिनों में बनारस, आजमगढ़, चंदौली, जौनपुर में सोते समय 100 से ज्यादा महिलाओं की चोटी कटने के मामले सामने आए है। जिसके चलते हिन्दू यूनिवर्सिटी कैम्पस में चोटी कटवा बाबा को स्थापित कर दिया गया है।

काशी हिन्दू विश्व विद्यालय के शॉपिंग मॉल परिसर में पीपल के पेड़ के नीचे चोटीकटवा बाबा सोमवार सुबह विराजमान दिखे। इनके शरीर को लाल रंग में रंगा गया है जबकि मुंह खुला हुआ हैं। यही नहीं, इनके हाथ भी गायब हैं। इसके अलावा बाबा के सिर के ऊपर एक मटका टांग दिया गया हैं और पेड़ में ही बोर्ड लगा कर लिखा गया है चोटी कटवा बाबा। इसी पेड़ के बाबा के पास एक सिल्वर कलर की मूर्ति को रख दिया गया है जिनके हाथों में एक धारदार शस्त्र भी हैं।

इस बात की जानकारी जैसे ही आस-पास फैली, लोग परिसर में आकर बाबा को माला-फूल पहनाकर दिए जलाकर, पूजा-पाठ भी करने लगे। और तो और, अब इस मूर्ति की फोटो सोशल मीडिया में भी वायरल हो रही है। बहरहाल रातों-रात ऐसे बाबा का मंदिर बना देना और मूर्ति स्थापित कर उसकी पूजा-पाठ शुरू करना, उन्हें माला-फूल पहनाकर, दिया जलाकर पूजनीय बनाना, ये एक तरीके से यूनिवर्सिटी सुरक्षा पर भी सवालिया निशान खड़ा करता है।

SHARE