Korea Open Super Series : चीन की चुनौती खत्म कर फाइनल में पहुंचीं पीवी सिंधु

भारत की बैडमिंटन स्टार वर्ल्ड नंबर-4 पीवी सिंधु कोरिया ओपन सुपर सीरीज के फाइनल में पहुंच गई हैं. ओलंपिक की सिल्वर मेडलिस्ट सिंधु ने शनिवार को सेमीफाइनल में वर्ल्ड नंबर-7 चीन की ही बिंजिआओ को  21-10, 17-21, 21-16 से मात दी. सिंधु ने मुकाबले की धमाकेदार शुरुआत की और पहला गेम महज 16 मिनट में जीत लिया, हालांकि उन्होंने दूसरा गेम गंवाया. लेकिन सिंधु ने जबर्दस्त वापसी की और तीसरे गेम में चीनी चुनौती को ध्वस्त कर डाला.  इसके साथ ही सिंधु भारतीय बैडमिंटन के लिए इतिहास रचने से महज एक कदम दूर हैं.

पहले गेम में वह लगातार चीनी खिलाड़ी पर हावी रहीं. सिंधु ने 20 साल की जूनियर वर्ल्ड चैंपियन और यूथ ओलिंपिक्स चैंपियन बिंगजिआओ से पहले गेम में 10-2 फिर 15-6 की बढ़त बनाए रखी और फिर 16 मिनट में गेम अपने नाम कर लिया. दूसरे गेम में भी वर्ल्ड नंबर 4 सिंधु ने बिंगजिआओ पर 11-6 की बढ़त कायम कर ली. लेकिन चीनी खिलाड़ी ने अपना दम दिखाते हुए दूसरा गेम 22 मिनट में 21-17 से अपने नाम कर लिया. तीसरे गेम में शुरुआत में सिंधु आगे चल रही थीं. लेकिन नेट्स पर स्मैश लगाकर बिंगजिआओ स्कोर को 9-9 पर ले आईं. इसके बाद सिंधु ने अपना आक्रमण और तेज कर दिया और स्कोर को 12-9 पर ले आईं.

आखिरकार ने सिंधु 1:06 घंटा चले मैच का तीसरा गेम 21-16 से अपने नाम कर लिया. दोनों खिलाड़ियों के बीच इससे पहले हुए 8 मुकाबलों में बिंगजिआओ ने 5 और सिंधु ने 3 मैच में जीत हासिल की थी. सिंधु ने बिंगजिआओ के खिलाफ इस मैच के जरिये चौथी जीत हासिल की. वर्ल्ड नंबर 4 सिंधु अब तक दो सुपर सीरीज खिताब अपने नाम कर चुकी हैं. 22 साल की सिंधु दो सुपर सीरीज़ प्रतियोगिताओं में उपविजेता भी रही हैं.

सिंधु अगर कोरिया ओपन जीतने में कामयाब रहती हैं, तो वह इस टूर्नामेंट पर कब्जा करने वाले पहली भारतीय खिलाड़ी होंगी. 1991 में शुरू हुए कोरिया ओपन के 26 साल के इतिहास में अबतक किसी भारतीय को खिताबी सफलता नहीं मिली है.

वर्ल्ड रैंकिंग की बात करें, तो सिंधु (नंबर 4) ने ओकुहारा (नंबर 9) को पहले ही पीछ छोड़ दिया है. लेकिन दोनों दोनों के बीच अबतक 7 मुकाबले हुए हैं. जिनमें से 4 बार ओकुहारा ने बाजी मारी.

सिंधु VS ओकुहारा ( 3- 4)

1. अगस्त 2017- वर्ल्ड चैंपियनशिप: ओकुहारा जीतीं (21-19, 20-22, 22-20)

2. अप्रैल 2017- सिंगापुर ओपन: सिंधु जीतीं (10-21, 21-15, 22-20)

3. अगस्त 2016- रियो ओलंपिक: सिंधु जीतीं (21-19, 21-10 )

4. फरवरी 2016- एशिया टीम चैंपियनशिप: ओकुहारा जीतीं (18-21, 21-12, 21-12

5. जनवरी 2015- मलेशिया मास्टर्स – ओकुहारा जीतीं (19-21, 21-13,21-8)

6. नवंबर 2014- हांग कांग ओपन- ओकुहारा जीतीं (21-17, 13-21, 21-11)

7. जुलाई 2012- अंडर-19 यूथ चैंपियनशिप- सिंधु जीतीं (18-21, 21-17, 22-20)

SHARE