अब उन्नाव से बीजेपी सांसद साक्षी महाराज नहीं बता पाये GST को फुल फार्म

देशभर में जीएसटी की गूंज सुनाई पड़ रही है। जिसके मुंह से सुनो वही इसकी बातें कर रहा है। लेकिन योगी सरकार के ये मंत्री तो जीएसटी की फुल फॉर्म तक बताने में फेल हो गए। कहने को यही मंत्री जीएसटी लागू होने से पहले जनता को इसकी अच्छाईयां बताने सड़कों पर निकले थे लेकिन वास्तविकता क्या है ये खुद मंत्री जी ने साबित कर दिया।

जीएसटी की फुल फॉर्म बताने में पहले योगी सरकार के समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री फंसे। जिनका एक वीडियो वायरल हुआ। इसमें वे GST (गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स) का फुल फॉर्म नहीं बता पा रहे थे। तो अब ऐसा ही एक वीडियो उत्तर प्रदेश के उन्नाव से बीजेपी सांसद साक्षी महाराज का सामने आया है। उन्नाव में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान जब साक्षी महाराज से पत्रकारों ने जीएसटी का फुलफॉर्म पूछा तो वे इसे बताेन में फेल हो गए। बता दें, 1 जुलाई से नया टैक्स सिस्टम जीएसटी लागू हो गया है।

बीजेपी सांसद शनिवार को अपने संसदीय क्षेत्र उन्नाव में प्रेस कांफ्रेंस कर रहे थे। इस दौरान वे जीएसटी की बड़ाई कर रहे थे। इसी बीच एक पत्रकार ने उनसे पूछ लिया जीएसटी का फुल फॉर्म क्या है? इसके जवाब में साक्षी महाराज ने कहा- जीएसटी का…ये एकल व्यवस्था है, केवल सारे करों को इकट्ठा करके इनकम टैक्स देने की व्यवस्था है।

योगी के मंत्री भी नहीं बता पाए थे फुल फॉर्म, सिर्फ कहा था- पता है…पता है बता दें, इससे पहले योगी के मंत्री रमापति शास्त्री भी जीएसटी का फुलफॉर्म नहीं बता पाए थे। रामापति शास्त्री गुरुवार को महाराजगंज के कलेक्ट्रेट सभागार में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इस दौरान वे जीएसटी को लेकर चर्चा कर रहे थे। इसी बीच एक पत्रकार ने उनसे जीएसटी का फुल फॉर्म पूछ लिया। इसके बाद मंत्री जी ने कहा- “जीएसटी का फुल फॉर्म है…और इतना कहकर मंत्री रुक गए। फिर बोले- पता है…पता है।“  इस दौरान मंत्री को पीछे से कई लोग सुझाव भी दे रहे हैं। वीडियो में सुनाई दे रहा है कि पीछे से एक आदमी मंत्री जी को फुल फॉर्म बताने की कोशिश कर रहा है, लेकिन वो भी गलत जानकारी दे रहा है। वो शख्स जीएसटी को `गवर्नमेंट सर्विस टैक्स` बता रहा है।

SHARE