सास ने कहा था, बिस्तर वही रहेगा, बस आदमी बदलते रहेंगे

शूटर तारा शाहदेव के जबरन धर्म परिवर्तन मामले में आरोपी झारखंड हाईकोर्ट के पूर्व रजिस्ट्रार मुस्ताक अहमद की परेशानी बढ़ गई है. सीबीआई ने विशेष अदालत से पूर्व रजिस्ट्रार के खिलाफ  गिरफ्तार वारंट प्राप्त कर लिया है.

इस मामले में पूर्व रजिस्ट्रार विजलेंस मुस्ताक अहमद की अग्रिम जमानत याचिका निचली अदालत के साथ साथ झारखंड हाईकोर्ट से भी खारिज हो चुकी है. मुख्य आरोपी रकीबुल हसन 27 अगस्त 2014 से जेल में है.

गौरतलब है कि नेशनल शूटर तारा शाहदेव लव जिहाद की शिकार हुई और मामला अब सीबीआई कोर्ट के अधीन है. सीबीआई की जांच के दौरान कई चौंकाने वाली बातें सामने आईं. सीबीआई की चार्जशीट के मुताबिक रकीबुल और उसकी मां तारा से जबरन इस्लाम धर्म कबूल करवाने पर अड़े थे.

तारा की सास ने उसे धमकी देते हुए कहा था कि ‘इस्लाम कबूल कर लो, अगर नहीं किया तो तुम्हारा बिस्तर यही रहेगा लेकिन आदमी बदलता रहेगा. पीड़िता तारा ने बताया था कि उसके सिंदूर लगाने पर भी पाबंदी थी. रकीबुल और उसकी मां सिंदूर लगाने पर हाथ-पैर तोड़ने की धमकी देते थे. तारा ने कहा कि शादी की पहली रात से ही उसका असली चेहरा मेरे सामने आ गया था.

SHARE