पीवी सिंधु को खेल मंत्रालय दिलाएगा पद्म भूषण, केंद्र सरकार को भेजा नाम

खेल मंत्रालय ने महिला बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु के नाम का प्रस्ताव पद्म भूषण सम्मान के लिए किया है। यह देश का तीसरा सबड़े बड़ा नागरिक सम्मान है। ओलिंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वाली सिंधु ने लगातार कई खिताब अपने नाम किए हैं. 2016 में चाइना ओपन और फिर इसी साल इंडिया ओपन के बाद पिछले दिनों कोरिया ओपन खिताब, सिंधु के तीनों ही खिताब ओलिंपिक रजत पदक के बाद आए हैं। पीवी सिंधु हालांकि जापान ओपन सुपर सीरीज के दूसरे दौर में हारने के बाद इस टूर्नामेंट से बाहर हो गईं। सुपर सीरीज के अलावा सिंधु के अहम पदकों पर नजर डालें तो रियो में ऐतिहासिक रजत पदक के बाद उन्होंने ग्लासगो वर्ल्ड चैंपियनशिप में रजत जीता।

तीन बार मकाऊ ओपन जीत चुंकी सिंधु ने सैयद मोदी ग्रां प्री गोल्ड का खिताब भी 2017 में अपने नाम किया। सिंधु अप्रैल में अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग दो तक पहुंचीं थीं। पिछले सप्ताह वह एक बार फिर उस स्थान तक पहुंच गईं। सिंधु ने 2013 और 2014 में वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। इसके अलावा 2014 में ही उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था। 2015 में सिंधु को पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।

इसके साथ ही सिंधु हाल ही में बीएफडब्ल्यू महिला एकल विश्व बैडमिंटन रैंकिंग में दूसरे स्थान पर पहुंची।  सिंधु करियर में दूसरी बार रैंकिंग में इस पायदान पर पहुंची है। ओलिंपिक में सिल्वर मेडल अपने नाम करने वाली सिंधु इस साल 6 अप्रैल को भी रैंकिंग में दूसरे स्थान पर पहुंची थीं।

इससे कुछ दिन पहले ही भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का नाम पद्म भूषण अवॉर्ड के लिए केंद्र सरकार को भेजा था। इस साल पद्म पुरस्कार के लिए बीसीसीआई की तरफ से सिर्फ धोनी का नाम ही भेजा गया है। बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस विशिष्ट सम्मान के लिए धोनी का नाम भेजने पर बोर्ड के सभी वरिष्ठ अधिकारी सहमत थे। क्रिकेट में धोनी के विशेष योगदान के लिए पद्म सम्मान के लिए धोनी को नामित किया गया है। धोनी की कप्तानी में देश को दो विश्वकप में जीत मिली।

SHARE