55 मिनट के भाषण में मॉब-लिंचिंग को लताड़ा, तीन तलाक भी नहीं भूले PM

देश स्वतंत्रता दिवस की 70वीं वर्षगांठ मना रहा है। इस अवसर पर पीएम ने राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने लालकिले की प्राचीर पर चौथी बार तिरंगा फहराया। जिसके बाद उन्होंने देश को संबोधित किया। उन्होंत्याग और तपस्या से जुड़ जाते हैं तो बहुत बड़ा परिवर्तन आता ने कहा कि देश शांति और सदभाव से चलता है, यह गांधी और बुद्ध का देश है इसलिए आस्था के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं की जाएगी ।
पीएम ने तीन तलाक के मुद्दे पर कहा कि तीन तलाक के कारण कुछ महिलाओं को बहुत परेशानी झेलनी पड़ रही हैं, पीड़ित बहनों ने देश में आंदोलन खड़ा किया, मीडिया ने उनकी मदद की।उन्होंने कहा कि तीन तलाक के खिलाफ आंदोलन करने वाली बहनों का मैं अभिनंदन करता हूं, पूरा देश उनकी मदद करेगा।

पीएम ने देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दी और कहा कि आजाद भारत के लिए यह विशेष पर्व है। देश कृष्ण जन्माष्टमी और स्वतंत्रता दिवस के पर्व को एक साथ मना रहा है।पीएम ने बड़ी संख्या में मौजूद बाल कृष्ण का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि सुदर्शन चक्र वाले मोहन के साथ चरखे वाले मोहन भी मौजूद हैं। ऐसे सभी माता-पिता को शत-शत नमन करता हूं।

पीएम ने कहा कि आजादी में साथ देने के लिए सभी का बहुत बहुत धन्यवाद। गोरखपुर मामले पर पीएम मोदी को प्राकृतिक आपदा से जोड़ते हुए कहा कि पिछले दिनों देश के कई भागों पर प्राकृतिक आपदा का संकट आया। हमारे अस्पताल में मासूम बच्चों की मौत हो गई। इस संकट के समय में पूरे देश की संवेदना उनके साथ है। उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा में कोई कमी नहीं रहने देंगे।

पीएम ने कहा कि पिछले साल क्विट इंडिया मूवमेंट के 70 साल पूरे हो गए, यह वह वर्ष है जब हम चंपारण आंदोलन की शताब्दी मना रहे हैं। लोकमान्य तिलक ने जिस गणेश उत्सव की परंपरा को शुरू किया था, इसे 125 साल पूरे हो रहे हैं। आज आजादी के 70 साल और 2022 में 75 साल पूरे करेंगे। 2022 में आजादी के दीवानों के सपनों का भारत बनाएंगे।

SHARE