पीयूष गोयल ने रूस की सड़क को भारत की सड़क बताया, पहले भी अमेरिका की सड़क को

अभी कुछ समय पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय की वेबसाइट पर अमेरिका-मेक्सिको बॉर्डर की तस्वीर को भारत-चीन का बताया गया था। सोशल मीडिया पर उस तस्वीर के वायरल होने के बाद उसकी हकीकत जब सामने आई तो मंत्रालय को अपनी गलती का अहसास हुआ और उसने तुरंत वो तस्वीर हटा ली। अब एक बार फिर से मोदी सरकार के एक मंत्रालय ने ऐसी ही गलती दोहराई है। इस बार ये कारनामा किया है देश के उर्जा मंत्रालय ने। दरअसल हुआ ये कि केंद्रीय उर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को एक तस्वीर पोस्ट कर दावा किया कि केंद्र की मोदी सरकार की बदौलत हम भारतीय सड़कों को जगमगाने में सफल हो पाए हैं। लेकिन पीयूष गोयल ने अपने दावे में जिस तस्वीर का इस्तेमाल किया वो भारत की नहीं रूस की है। पीयूष गोयल ने रूस की इस तस्वीर को भारत का बताकर अपने ट्वीट में लिखा- सरकार ने 50 हजार किलोमीटर की सड़को को 30 लाख एलईडी लाइट्स से चमकाने का काम कर दिखाया है।

पीयूष गोयल द्वारा इस्तेमाल की गई ये फेक तस्वीर सोशल मीडिया यूजर्स की निगाहों से बच नहीं पाई। जॉय दास नाम के एक यूजॉर ने इस तस्वीर को पकड़ लिया कि ये तो रूस की तस्वीर है। जॉय दास ने इस तस्वीर की सच्चाई बयां करते हुए सरकार पर तंज कसा और ट्वीट किया कि कनाडा में एलईडी लाइट रिप्लेस करने के बाद अब भाजपा ने रूस की लाइट्स भी रिप्लेस कर दीं।

After replacing LED lights in Canada, now BJP has replaced LED Lights in Russia. Massive respect for BJP and @PiyushGoyal pic.twitter.com/XyemXjrIVZ — Joy (@Joydas) August 20, 2017

पीयूष गोयल ने अपनी गलती मानते हुए उन्हें तस्वीर की हकीकत बताने वाले लोगों का शुक्रिया करते हुए एक और ट्वीट किया। केंद्रीय मंत्री ने अपने इस ट्वीट में लिखा कि जिस तरह से हम सड़को को रोशन कर रहे हैं उसी तरह सोशल मीडिया तथ्यों को उजागर कर हमें रोशनी दे रहा है।

Thanks to many who pointed issues with earlier image. While we illuminate streets, social media helps illuminate facts, helping us improve. — Piyush Goyal (@PiyushGoyal) August 21, 2017

SHARE