ISIS के लिए भारतीयों की भर्ती करने वाली महिला गिरफ्तार

आईएसआईएस के लिए काम करने वाली महिला करेन आयशा हामिदन को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NBI) ने फिलीपींस से गिरफ्तार कर लिया है। आयशा हामिदन फिलीपींस आतंकवादी नेता मोहम्मद जाफार मैकिड की विधवा है। हामिदन का काम संगठन में नए आतंकियों की भर्ती करना है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने फिलीपींस सरकार से हामिदन के बारे में जानकारी और सुबूत जुटाने के लिए मदद मांगी थी। जिसके बाद से फिलीपींस की राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NBI) आयशा हामिदन को लेकर काफी अलर्ट हो गई थी। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को इस बात पर पहली बार शक तब हुआ जब भारत में गिरफ्तार किए गए दो आईएस आतंकियों मोहम्मद सिराजुद्दीन और मोहम्मद नासिर का लिंक हामिदन के साथ जोड़ा गया। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को पिछले साल ऐसी खबरें मिली थी कि हामिदन भारत, संयुक्त अरब अमीरात, अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया और बांग्लादेश आदि जैसे देशों से ‘विदेशी लड़ाकों’ की भर्ती के लिए फेसबुक, टेलीग्राम चैनल और व्हाट्सएप समूह का इस्तेमाल करती हैं।

कुछ भारतीय आईएस मुंबई, तिरुचिरापल्ली, हैदराबाद, श्रीनगर, सोपोर, कानपुर, कोलकाता और जयपुर से हामिदन के साथ संपर्क करते थे। एनआईए के मुताबिक हामिदन मेट्रो मनीला के टेगुइग सिटी में डिएगो शिलांग गांव की रहने वाली है। उसका असली नाम करेन आयशा अल-मुस्लिमाह है। हामिदन ऐसे लोगों को इस ग्रुप में शामिल करती थीं जो आतंक, जिहाद, खिलाफत विचारधारा रखते थे और इस काम में उनका साथ देना चाहते थे।

दूसरे देशों के अलावा भारत के भी कई युवा आईएस में शामिल होने के इच्छा जता चुके थे। कहा जाता है कि हामिदन युवाओं को बरगालकर आतंकी संगठन में भर्ती करने में माहिर थी।

SHARE