गुजरात के बीजेपी विधायक ने कहा- नहीं दूंगा रामनाथ कोविंद को वोट, चाहे मेरी सदस्यता चली जाय

सोमवार (17 जुलाई) को 10 बजे से राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान हो रहे हैं। मतदान शाम पांच बजे तक होंगे। राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और कांग्रेस उम्मीदवार मीरा कुमार के बी च मुकाबला है। बीजेपी ने दावा किया है कि रामनाथ कोविंद को 40 राजनीतिक दलों का समर्थन प्राप्त है। वहीं मीरा कुमार को 18 दलों का समर्थन प्राप्त है। राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे 20 जुलाई को आएंगे। नए राष्ट्रपति 25 जुलाई को शपथ लेंगे। राष्ट्रपति चुनाव में सांसद और विधायक वोट देते हैं। राष्ट्रपति चुनाव में कोई भी राजनीतिक दल अपने विधायकों और सांसद को अपने प्रत्याशी को वोट देने के लिए व्हिप नहीं जारी कर सकता। यानी विधायक और सांसद अपनी मर्जी से वोट दे सकते हैं और पार्टी के उम्मीदवार के खिलाफ वोट करने पर उनकी कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की जा सकती।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भरोसा जताया कि रामनाथ कोविंद चुनाव में विजयी होंगे। वहीं सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू ने भी रामनाथ कोविंद की जीत की उम्मीद जतायी है। वेंकैया ने कहा, “रामनाथ कोविंद जी अच्छे  और सम्मानजनक अंतर से जीतेंगे।” एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को एनडीे के घटक दलों के अलावा जनता दल (यूनाइटेड), तेलंगाना राष्ट्रीय समिति, आल इंडिया द्रविड़ मुनेड़ कड़गम (एआईएडीएमके), शिव सेना तेलुगुदेशम पार्टी और बीजू जनता दल का समर्थन प्राप्त है। वहीं कांग्रेस उम्मीदवार मीरा कुमार को तृणमूल कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (सीपीएम), समाजवादी पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, द्रविड़ मुनेड़ कड़गम (डीएमके) का समर्थन प्राप्त है। एनडीए के पास पांच लाख 32 हजार वोट हैं।

बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख मायावती ने कहा है कि राष्ट्रपति चुनाव में कोई भी जीते अगला राष्ट्रपति अनुसूचित जाति से होगा और ये हमारे आंदोलन और पार्टी की बड़ी जीत है। वहीं गुजरात के बीजेपी विधायक नलीन कोटडिया ने कहा है कि वो पार्टी के राष्ट्रपति उम्मीवार रामनाथ कोविंग को वोट नहीं देंगे। कोटडिया ने एबीपी न्यूज से कहा कि इसके लिए अगर पार्टी उन्हें विधायक पद से हटाएगी तो भी वो तैयार हैं।

SHARE