मानुषी ने दांव पर लगाया करियर, मिस वर्ल्ड बनने के लिए दी थी बड़ी कुर्बानी

जब किसी में अपने लक्ष्य को पाने की चाह होती है तो उसके लिए वह कुछ भी कुर्बान कर सकता है। वहीं मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने वाली मानुषी छिल्लर ने ऐसी कुर्बानी दी थी कि उनका करियर दांव पर लग गया था। मानुषी ने जून 2017 में मिस इंडिया का खिताब जीता था। इसी दौरान उन्होंने अपने गांव पहुंचने पर इस बात का खुलासा किया था।

मिस वर्ल्ड के लिए मानुषी ने दी ये कुर्बानी
मानुषी ने बताया कि मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने के लिए वे एमबीबीएस का एक साल ड्रॉप कर रही हैं, हालांकि ये भी कहा था कि प्रतियोगिता पूरी होने के बाद वे इसे पूरा करेंगी। मानुषी में कुछ कर गुजरने का जज्बा इतना था कि उन्होंने इतना बड़ा फैसला लिया और मां बाप ने भी इसमें उनका साथ दिया। मानुषी ने बताया कि उनके इस फैसले में उनके सभी परिजन उनके साथ हैं। वैसे भी मॉडलिंग और ग्लैमर की दुनिया उनका पहला शौक है। ऐसे में मेडिकल की पढ़ाई और ब्यूटी कांटेस्ट की तैयारी में बैलेंस करने में दिक्कत जरूर आई लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि वे एमबीबीएस पूरी नहीं करेंगी। एमबीबीएस पूरी करके डॉक्टर बनकर वे बहुत से ऐसे काम करना चाहती हैं, जो महिलाओं के हित में होंगे।
PunjabKesari
खुद पर न करें संदेह: मानुषी
मानुषी छिल्लर ​कहती हैं कि कुछ भी करने की कोई सीमा नहीं होती। हम सीमा से परे हैं और हमारे सपने भी अनंत हैं। हमें खुद पर कभी भी संदेह नहीं करना चाहिए। उनके माता-पिता ने इसी सोच के साथ हरियाणा में उनकी परवरिश की।

गौरतलब है कि मिस इंडिया मानुषी छिल्लर ने मिस वर्ल्ड 2017 का खिताब जीतकर इतिहास रच दिया है। उनकी इस जीत ने उनके डॉक्टर माता-पिता के साथ देश का सिर फक्र से ऊंचा कर दिया। 17 साल बाद किसी भारतीय लड़की ने दुनिया भर की 108 सुंदरियों को पछाड़कर खिताब अपने नाम किया है। चीन के सान्या शहर में मिस वर्ल्ड 2017 प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। प्रतियोगिता में फर्स्ट रनरअप मिस इंग्लैंड स्टेफनी हिल रहीं, जबकि सेकेंड रनर अप के खिताब पर मिस मैक्सिको एंड्रिया मेजा ने कब्जा जमाया। इन दोनों के साथ मानुषी का करीबी मुकाबला था लेकिन अंत में ताज मानुषी के सिर आया। 14 मई 1997 को जन्मी हरियाणा की छोरी मानुषी छिल्लर ने जून 2017 में मिस इंडिया का खिताब जीता था। मानुषी 1966 में पहली बार मिस वर्ल्ड बनी रीता फारिया को अपना आदर्श मानती हैं।

SHARE