मैडम के चुस्त बदन और ये कपड़े, सरकारी स्कूल में मचा बवाल, बच्चे भी हुए हैरान

रायपुर की तहसील अभनपुर के गांव सिवनी में एक सरकारी स्कूल की व्याख्याता के पहनावे को लेकर जन शिकायत निवारण विभाग के सामने अजीबोगरीब शिकायत का मामला सामने आया है।
पाठशाला प्रबंधन एवं विकास समिति के अध्यक्ष लक्ष्मीकांत ठाकुर ने शिकायत में लिखा है कि मैडम के चुस्त कपड़े पहनकर आने से स्कूल का माहौल प्रभावित हो रहा है, इसलिए मैडम को हटाया जाए। उधर, व्याख्याता का कहना है, ‘मैं आठ साल से वहां पढ़ा रही हूं और अब तक किसी ने कुछ नहीं कहा।’ व्याख्याता का आरोप है, ‘समिति की बैठक महीने में एक बार होती है। जबकि वे हर दिन यहां आते हैं। अध्यक्ष चाहते हैं, मैं उन्हें सुबह-शाम नमस्ते करूं, जी हुजूरी करूं। यह मुझसे नहीं होगा। अध्यक्ष कौन होते हैं, मेरे चरित्र का सर्टिफिकेट बांटने वाले।’

अभनपुर विकासखंड शिक्षा अधिकारी ममता सिंह ने कहा, मुझे आज ही स्कूल की मैडम के पहनावे को लेकर जानकारी मिली, जिसको लेकर शाला प्रबंधन समिति अध्यक्ष ने आपत्ति जताई है। मुझे नहीं लगता, जो कोई भी शिक्षण क्षेत्र में हैं, वह अशोभनीय कपड़े पहनेगा। कामकाजी महिलाएं अपने जीवन में कुछ शारीरिक समस्याओं से भी गुजरती हैं, जिसे समझने की जरूरत है। यह शिकायत पहली नजर में दुर्भावना से प्रेरित लग रही है। यह अजीब मानसिकता है।
यह की शिकायत
ठाकुर ने शिकायत में लिखा, मुझे सिवनी के स्कूल में पढ़ा रहीं मैडम के अध्यापन और पहनावे को लेकर गंभीर पत्र मिला था। इससे मुझे दुख हुआ। मैडम के चुस्त कपड़ों को लेकर लड़के गंदी बातें करते हैं। गांव वालों ने भी इसकी शिकायत मुझसे की थी। अब छात्राओं की शिकायत के बाद मामला गंभीर हो गया है।
स्कूल के प्राचार्य एसएन साहू का कहना है, कुछ समय पहले छात्राओं के नामों का उल्लेख किए बगैर सरपंच ने गुमनाम खत का हवाला देकर मुझे बताया था कि मैडम का पहनावा अनुचित है, लेकिन स्कूल में पढ़ाने वाली करीब 15 अन्य शिक्षिकाओं का पहनावा अभद्र नहीं लगा। पता नहीं अध्यक्ष ने ऐसी शिकायत क्यों की?

SHARE