लखनऊ को मिली पहली महिला मेयर, BJP की संयुक्ता भाटिया की बड़ी जीत

लखनऊ को मिली पहली महिला मेयर, BJP की संयुक्ता भाटिया की बड़ी जीत

यूपी की राजधानी लखनऊ को पहली महिला मेयर मिल गई है. यूपी नगर निकाय चुनाव में बीजेपी की संयुक्ता भाटिया ने बड़ी जीत हासिल कर ये उपलब्धि अपने नाम कर ली है. राजधानी में नगर निगम चुनावों के 100 साल के इतिहास में लखनऊ की मेयर कोई महिला नहीं बन सकी थी. चूंकि इस बार लखनऊ मेयर की सीट महिला के लिए आरक्षित थी इसलिए सभी दलों ने महिला उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था.

लखनऊ में कुल 5 लाख 80 हजार 64 मतों में से बीजेपी की संयुक्ता भाटिया ने 2 लाख 43 हजार 169 वोट हासिल किए. वहीं एसपी की मीरावर्धन दूसरे स्थान पर रहीं. मीरा वर्धन को 1 लाख 58 हजार 974 वोट मिले. इनके अलावा कांग्रेस की प्रेमा अवस्थी 70 हजार 753 मत के साथ तीसरे स्थन पर रहीं, जबकि बीएसपी की बुलबुल गोदियाल 53 हजार 258 वोट के साथ चौथे स्थान पर रहीं.

यूपी नगरीय निकाय चुनाव की मतगणना में सत्तारूढ़ बीजेपी लगातार बढ़त बनाये हुए है. महापौर पद की मतगणना में बीजेपी 16 में से 14 सीटों पर बढ़त बनाये है, जबकि बीएसपी दो सीटों पर आगे है. इसके अलावा नगर पालिकाओं के चुनाव की मतगणना के रुझानों में भी बीजेपी की बढ़त बनी हुई है.

यूपी नगरीय निकाय चुनाव की मतगणना में सत्तारूढ़ बीजेपी लगातार बढ़त बनाये हुए है. महापौर पद की मतगणना में बीजेपी 16 में से 14 सीटों पर बढ़त बनाये है, जबकि बीएसपी दो सीटों पर आगे है. इसके अलावा नगर पालिकाओं के चुनाव की मतगणना के रुझानों में भी बीजेपी की बढ़त बनी हुई है. वर्ष 2012 के नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा ने 12 में से 10 महापौर की सीटें जीती थीं. इस बार अयोध्या, फिरोजाबाद, मथुरा तथा बुलंदशहर पहली बार नगर निगम के तौर पर चुनाव प्रक्रिया से गुजर रहे हैं.

बहरहाल, सभी परिणाम आज शाम तक आ जाने की सम्भावना है. चूंकि नगर निगमों के चुनाव इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) से हुए थे, लिहाजा वहां नतीजे जल्दी आने की उम्मीद है. प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा ने रुझानों में बीजेपी की बढ़त के बारे में कहा कि एसपी, बीएसपी और कांग्रेस वैसे तो अलग लड़ रहे थे, लेकिन दरअसल वे एक-दूसरे के निकट रिश्तेदार बनकर लड़े. एसपी और कांग्रेस ‘यूपी के लड़के’ कहकर टायर-ट्यूब की तरह चुनाव लड़े थे, मगर वे पंक्चर हो गये. निकाय चुनावों के सम्भावित परिणाम हमारे लिये दायित्व बोध है.

Interesting Tale From UP Civic Polls Results 2017: BJP & Congress Both Get 874 Votes In Ward No.56 In Mathura | गजबः यहां बीजेपी-कांग्रेस को मिले बराबर वोट, लकी ड्रॉ में जीती BJP

Interesting Tale From UP Civic Polls Results 2017: BJP & Congress Both Get 874 Votes In Ward No.56 In Mathura | गजबः यहां बीजेपी-कांग्रेस को मिले बराबर वोट, लकी ड्रॉ में जीती BJP

उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में नहीं बल्कि गड़बड़ी तो विपक्षी दलों की सोच में है. इन दलों ने जाति विशेष के लिये काम किया. उसे जनता ने नकारा है. हमारी सरकार ने सबका साथ, सबका विकास की नीति के तहत काम किया, जिसे जनता ने समर्थन दिया है. एसपी के विधान परिषद सदस्य राजपाल कश्यप ने कहा कि यह बड़ी दुखद बात है कि जहां ईवीएम से वोट पड़े, वहां बीजेपी को काफी बढ़त है. यह हमारे लिये चिंता की बात है. हम इस पर बारीकी से नजर रख रहे हैं.

मालूम हो कि प्रदेश के 16 नगर निगमों, 198 नगर पालिकाओं और 438 नगर पंचायतों के लिये तीन चरणों में गत 22, 26 और 29 नवम्बर को कुल करीब 52.5 प्रतिशत मतदान हुआ था. सम्पूर्ण 652 निकायों की गणना के लिए प्रदेश में 334 मतगणना स्थल स्थापित किए गए हैं जिनमें कुल 11,200 टेबल मतगणना के लिए लगायी गयी हैं. मतगणना में कुल 56,000 कार्मिक नियुक्त किए गए हैं. मतगणना की निगरानी के लिए मतगणना स्थल पर सी.सी.टी.वी. कैमरे तथा वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई है

SHARE