नीतीश सरकार को अस्थिर करने के लिये मेरी ‘बीजेपी’ से कोई डील नहीं– लालू

पटना: बिहार में महागठबंधन सरकार में शामिल राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने उन खबरों को सिरे से खारिज कर दिया है, जिसमें कहा गया था कि उन्होंने नीतीश कुमार सरकार को अस्थिर करने का ऑफर देकर केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ किसी ‘समझौते’ की कोशिश की है. गौरतलब है कि केंद्रीय एजेंसियां लालू परिवार के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामलों की जांच कर रही है.

एक निजी न्यूज चैनल से बात करते हुए लालू यादव ने  कहा कि मैंने जेटली या गडकरी से कोई चर्चा नहीं की. मैं मोदी या अमित शाह को फोन कर सकता था. उन्होंने जोर देकर कहा कि मैं खत्म होना पसंद करूंगा, लेकिन कभी मोदी या बीजेपी की विचारधारा के साथ कोई समझौता नहीं कर सकता हूं.

उन्होंने कहा कि वह भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना करेंगे, न कि बीजेपी से अपने लिए नरमी का आग्रह करेंगे. लालू यादव ने आरोप लगाया कि भगवा पार्टी और पीएम मोदी के खिलाफ उनके मुखर विरोध के कारण बीजेपी मनगढ़ंत आरोप लगा रही है और केंद्रीय जांच एजेंसियों का इस्तेमाल कर राजनीतिक बदला ले रही है.

लालू यादव का यह बयान उनके सहयोगी दल जेडीयू के प्रमुख और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ सुलह-समझौते के एक दिन बाद आया है. उल्लेखनीय है कि नीतीश ने विपक्षी दलों के रुख से अलग हटते हुए बीजेपी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन दिए जाने की घोषणा की. इसके बाद करीब हफ्ते भर तक आरजेडी और जेडीयू के रिश्तों में खटास की स्थिति बनी रही.

SHARE