नार्थ कोरिया ने दी धमकी , कभी भी हो सकता हैं युद्ध

संयुक्त राष्ट्र में नॉर्थ कोरिया के डिप्टी यूएन एम्बेसडर किम इन रयोंग के दस्तावेज में इस बात का खुलासा हुआ है. यह दस्तावेज यूएन जनरल असेंबली की एक कमेटी की ओर से परमाणु हथियारों को लेकर किए गए डिस्कशन में शामिल किया गया था. इसमें कहा गया है- “जब तक अमेरिकी मिलिट्री एक्शन में कोई देश शामिल नहीं होता है, तब तक उसके ऊपर परमाणु हमला नहीं किया जाएगा.” साथ ही यह भी चेतावनी दी गई है कि नॉर्थ कोरिया के पास यह शक्ति है कि वह अमेरिका को सीधे निशाना बना सकता है अगर अमेरिका नॉर्थ कोरिया के क्षेत्र में एक इंच भी दखल देता है. हालांकि, बोलते वक्त किम ने इन बातों का जिक्र नहीं किया.नॉर्थ कोरिया की ओर से कहा गया है कि जो भी देश नॉर्थ कोरिया के ऊपर कार्रवाई करने में अमेरिका का साथ देंगे, उसे नॉर्थ कोरिया की ओर से टार्गेट किया जाएगा. लेकिन जो देश अमेरिका को सहयोग नहीं देते हैं, वे सेफ महसूस करें, उनके ऊपर नॉर्थ कोरिया कार्रवाई नहीं करेगा

नॉर्थ कोरिया और अमेरिका के बीच विवाद चरम पर है. एक ओर अमेरिका तानाशाह किम जोंग उन पर लगाम लगाने की कोशिश कर रहा है तो दूसरी ओर नॉर्थ कोरिया पाबंदी मानने को तैयार नहीं और हमले की धमकी दे रहा है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, 18 अक्टूबर को तानाशाह परमाणु लैस मिसाइल टेस्ट करने वाला है, फिर जंग हो सकती है. जापान, साउथ कोरिया पहले ही आशंका जता चुके हैं.

उत्तर कोरिया पर कई तरह के अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध लगाए जा चुके हैं. इसके बावजूद भी उत्तर कोरिया अपनी ताकत बढ़ाने में लगा रहता है. फिलहाल नॉर्थ कोरिया और अमेरिका के बीच विवाद चरम पर है.एक ओर अमेरिका तानाशाह किम जोंग उन पर लगाम लगाने की कोशिश कर रहा है तो दूसरी ओर नॉर्थ कोरिया पाबंदी मानने को तैयार नहीं है और हमले की धमकी दे रहा है.18 अक्टूबर को तानाशाह परमाणु लैस मिसाइल टेस्ट करने वाला है. अब नॉर्थ कोरिया अमेरिका के लिए सिरदर्द बन चुका है.

अमेरिका और नॉर्थ कोरिया दोनों की सैन्य ताकत कितनी है.नॉर्थ कोरिया के पास कुल 1 करोड़ 30 लाख सैनिक हैं. वहीं अमेरिका के पास 14 करोड़ 52 लाख सैनिक हैं.मिलिट्री सैटेलाइट मेंअमेरिका इतना ताकतवार है कि अगर नॉर्थ कोरिया में एक चिड़िया भी उड़ती दिख जाए तो अमेरिकी सैटलाइट उस पर भी ड्रोन हमला कर सकती है. अमेरिका के पास कुल 123 मिलिट्री सेटेलाइट हैं जबकि नॉर्थ कोरिया के पास एक भी नहीं.नॉर्थ कोरिया के पास 100 अटैक हेलिकॉप्टर हैं जबकि अमेरिकी सेना के पास 1830 अटैक हेलिकॉप्टर हैं.नॉर्थ कोरिया के पास 76 सबमरीन है तो वहीं अमेरिका के पास 81 हैं यानी यहां भी अमेरिका काफी आगे है. अमेरिका के पास न्यूक्लियर सबमरीन भी हैं जबकि नॉर्थ कोरिया के पास नहीं.नॉर्थ कोरिया के पास जहां 10 या उससे कुछ ज्यादा न्यूक्लियर बम हैं तो वहीं अमेरिका के पास 7 हजार से ज्यादा हैं. नॉर्थ कोरिया के पास कुल 944 एयरक्राफ्ट हैं.

वहीं अमेरिका के पास उससे 15 गुना ज्यादा (13,762) एयरक्राफ्ट हैं.नॉर्थ कोरिया के पास जहां 5025 टैंक हैं,  तो वहीं अमेरिका के पास 5884 टैंक्स हैं.नॉर्थ कोरिया के पास जहां 130 जंगी जहाज हैं तो वहीं अमेरिका के पास 441 जंगी जहाज हैं जो काफी आधुनिक हैं.10 अक्टूबर को अमेरिकी मिलिट्री के बॉम्बर्स ने नॉर्थ कोरिया के पेनिसुला इलाके के ऊपर उड़ान भरी थी. अमेरिका ने अपनी ताकत दिखाने की कोशिश की थी. कुल मिलाकर मिलिट्री पॉवर की बात की जाए तो अमेरिका नॉर्थ कोरिया से बहुत आगे है. जंग के दौरान तो नॉर्थ कोरिया अमेरिका के सामने शायद एक दिन भी नहीं टिक पाएगा.

SHARE