KGMU के डॉक्टरों का कमाल: 5 घंटे की सर्जरी, 11 माह की बच्ची के दिल में हुए तीन छेद किए बंद

केजीएमयू के डॉक्टरों ने मंगलवार को 11 माह की बच्ची के जन्मजात दिल में हुए तीन छेदों को पांच घंटे की सर्जरी कर बंद कर दिया। ऑपरेशन में सबसे बड़ी चुनौती थी बच्ची का वजन महज छह किग्रा. होना। अब तक 10 किग्रा. से कम वजन के बच्चों को ऐसे ऑपरेशन के लिए दिल्ली के एम्स भेजा जाता था।
केस स्टडी : निमोनिया की शिकायत के साथ लाई गई थी बच्ची
कार्डियो वैस्कुलर थोरैसिक सर्जरी (सीवीटीएस) विभाग के डॉक्टर अंबरीष कुमार के मुताबिक बस्ती जिले से लाई गई मासूम को निमोनिया की शिकायत थी। जांच में पता चला कि उसके दिल में तीन सुराख हैं।

केस खास क्यों : आमतौर पर ऐसे केसेज में दो ही सुराख होते हैं
डॉ. अंबरीष बताते हैं कि आमतौर पर इस तरह की बीमारी के साथ आने वाले छोटे बच्चों के दिल में दो ही सुराख देखे जाते हैं। इसके कारण बच्चों का वजन नहीं बढ़ता है। पर इस केस में तीन सुराख थे।

फेफड़ों को पहुंच रहा था नुकसान
तीन सुराख होने से फेफड़े को तीन गुना खून की सप्लाई हो रही थी। इससे फेफेड़ों को भी नुकसान पहुंच रहा था। ये छेद काफी तेजी से बढ़ रहे थे।

SHARE