भारत-चीन जैसे परमाणु देश 300 मीटर जमीन के लिए नहीं करते जंग

भारत के पास इसकी उम्मीद जिंदा है कि चीन के साथ डोकलाम के गतिरोध को लेकर कोई युद्ध नहीं होगा। भारतीय विदेश सेवा के उच्चपदस्थ सूत्र के अनुसार जमीन पर 300 मीटर पीछे हटने के लिए दो देश युद्ध नहीं लड़ते।
सूत्र का कहना है कि विवाद के निबटारे और गतिरोध को खत्मक करने की पहल जारी है। कूटनीतिक चैनल का इस्तेमाल किया जा रहा है और जल्द ही समस्या के समाधान की उम्मीद है। हालांकि हालात की गंभीरता को देखते हुए भारतीय सैन्य बलो ने चीन की तैयारियों के बाबत हर चुनौती से निबटने की सक्षमता तेज कर दी है।

राजनयिक सूत्रों के मुताबिक जून से लेकर अबतक चीन और भारत के बीच में डोकलाम गतिरोध को दूर करने के कई दौर के प्रयास हुए हैं। इस दौरान चीन ने कई बार युद्ध की धमकी दी है, लेकिन इन सबके बावजूद भारत और चीन के रिश्ते हैं। दोनों देश इसका सम्मान भी करते हैं।

युद्ध जैसी संभावना के बारे में पूछे जाने पर सूत्र का कहना है कि  भारत डोकलाम से अपनी फौज को हटाने के लिए तैयार है। बशर्ते चीन अपनी सेना को पीछे लै जाने की गारंटी दे दे। रहा सवाल युद्ध का तो भारत और चीन जैसे संयम वाले देश 300 मीटर जमीन के टुकड़े को लेकर युद्ध नहीं कर सकते।

SHARE