दलाई लामा बोले- पाकिस्तान से ज्यादा शांत देश है भारत, चीन भी करेगा फॉलो

दलाई लामा बोले- पाकिस्तान से ज्यादा शांत देश है भारत, चीन भी करेगा फॉलो
धर्मगुरू दलाई लामा ने भारत की प्राचीन सभ्यता की जमकर तारीफ की है। अंग्रेजी चैनल को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि अगर भारत नैतिक शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ता है तो चीन उसके साथ चलेगा। उन्होंने कहा कि चीन की सरकार को तिब्बत सभ्यता और भाषा का आदर करना चाहिए।

 NSG सदस्यता पर भारत के साथ आया रूस, कहा- पाकिस्तान से नहीं हो सकती तुलना


उन्होंने भारतीय सभ्यता की तारीफ करते हुए कहा कि इस सभ्यता ने हमारे जीने का ढंग बदला है और हमें इससे शांति मिली है, इसलिए मैं भारतीयों को कहता हूं कि सभ्यता के हिसाब से वो गुरू हैं और हम चेला हैं। दलाई लामा ने कहा कि उन्होंने नागासाकी और हिरोसिमा समेत कई युद्ध पीड़ित क्षेत्रों का जायजा लिया, जहां उन्होंने पाया कि समस्या की शुरुआत सेना का प्रयोग करने से होती है।

पढ़ें:राहुल का pm पर वार क्यों ये सौतेला व्यवहार , किसान मर रहा है

इससे केवल नकारात्मक संदेश जाता है और युद्ध की संभावना प्रबल हो जाती है। यही नकारात्मक संदेश माता-पिता और उनके बच्चों में भी जाता है। हमें बातचीत के जरिये एक-दूसरे के साथ इस दुनिया में रहना होगा। भले ही हम इसे पसंद करें या न करें। हमें एक शांत समाज का निर्माण करना होगा।

जिसके लिए हमें सबसे पहले आत्मिक शांति और बुद्धिमत्ता को स्थापित करना होगा।उन्होंने अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा का जिक्र करते हुए कहा कि अभी मैं 82 साल का हूं और कुछ सालों तक ही और एक्टिव रहूंगा लेकिन उसके बाद थोड़ा मुश्किल है।

पढ़ें: येरूशलम को इजरायल की राजधानी बनाकर क्या 1.5 अरब मुसलमानों से जंग छेड़ रहे हैं ट्रंप?

इसलिए नोबेल पुरस्कार विजेता होने के नाते मैंने ओबामा से कहा कि वह शांति और समरसता का प्रचार करेंगे। दलाई लामा ने कहा कि ओबामा ने मुझसे वादा किया कि वो भविष्य में इन बातों का प्रचार जरूर करेंगे।

SHARE