कानपुर में दबंगों ने पिस्तौल दिखाकर मांगी रंगदारी, व्यापारी को पड़ा हार्ट अटैक

शास्त्रीनगर में पिस्तौल से धमकाकर रंगदारी मांगने पर दवा विक्रेता को दिल का दौरा पड़ गया। परिवार के लोग उन्हें कार्डियोलॉजी ले गए, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। व्यापारी के बेटे ने फजलगंज थाने में गोविंदनगर के दवा विक्रेता और छह-सात अज्ञात लोगों के खिलाफ तहरीर दी है।
कौशलपुरी निवासी जसविंदर सिंह का शास्त्रीनगर सीएल मेमोरियल अस्पताल के सामने मेडिकल स्टोर है। रविवार दोपहर जसविंदर अपने पिता मंजीत सिंह (62) के साथ दुकान पर थे। करीब ढाई बजे कुमार मेडिकल स्टोर गोविंदनगर के संचालक शम्मी अपने छह-सात साथियों के साथ जसविंदर के मेडिकल स्टोर पर पहुंचे। इनमें से एक ने खुद को ड्रग एसोशिएशन का अध्यक्ष बताते हुए के मंजीत से चार लाख रुपए मांगे। मंजीत ने इतनी बड़ी रकम देने से इनकार कर दिया तो सभी ने गाली-गलौज करते हुए मेडिकल स्टोर बंद करा देने की धमकी दी। आरोप है कि कहासुनी के बीच कुमार मेडिकल स्टोर के मालिक शम्मी ने पिस्तौल निकाल ली और मंजीत सिंह के ऊपर तान दी। पिस्टल देखते ही मनजीत पसीना-पसीना हो गए और सीना पकड़कर फर्श पर गिर गए। व्यापारी के गिरते ही धमकाने वाले लोग भाग निकले। दुकान पर मौजूद जसविंदर और कर्मचारियों ने मंजीत को संभाला और तुरंत कार्डियोलॉजी लेकर पहुंचे। यहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। जसविंदर ने पुलिस कंट्रोल रूम पर रंगदारी मांगने की सूचना दी। कुछ ही देर में काकादेव और फजलगंज पुलिस मेडिकल स्टोर पर पहुंची। वहां से पता चला कि व्यापारी को कार्डियोलॉजी ले गए हैं। जब पुलिस वहां पहुंची तब तक व्यापारी की मौत हो चुकी थी। सीओ नजीराबाद नम्रता श्रीवास्तव भी अस्पताल पहुंचीं। जसविंदर ने फजलगंज थाने में मेडिकल स्टोर संचालक शम्मी और उसके साथियों के खिलाफ तहरीर दी है।

SHARE