मदरसों पर कार्रवाई की तैयारी में योगी सरकार, 2500 से ज्यादा की रद्द हो सकती है मान्यता

उत्तर प्रदेश में 2500 से अधिक मदरसों पर जल्द ही गाज गिरने वाली है। सूबे की योगी सरकार इसके लिए तैयारियां कर रही है। सरकार ने यह कदम फर्जीवाड़ा रोकने के लिए उठाया है, जिसके तहत 2632 मदरसों पर कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो आखिरी तारीख से पहले वेबसाइट पर मदरसे के ब्यौरे से जुड़ी जानकारी न अपलोड करने पर उनकी मान्यता रद्द की जाएगी। साइट पर ब्यौरा देने की आखिरी तारीख 15 अक्टूबर थी। यह पहला मौका नहीं है, जब योगी सरकार ने इस तरह का फैसला लिया हो। सितंबर में इससे पहले प्रदेश के 46 मदरसों को मिलने वाली सरकारी सहायता पर रोक लगा दी गई थी। जांच रिपोर्ट में मानक के अनुकूल उन मदरसों में कमी देखने को मिली थी।

दरअसल, मदरसा शिक्षा परिषद ने फर्जीवाड़े पर लगाम लगाने के लिए madarsaboard.upsdc.gov.in नाम की एक साइट तैयार कराई थी। 15 अक्टूबर तक इस पर 16461 मदरसों ने अपनी-अपनी जानकारी मुहैया कराई। लिहाजा वे ही सरकार से मिलने वाली मान्यता और अनुदान पा सकेंगे। वहीं, 2682 मदरसों की मान्यता ब्यौरा न देने के चलते रद्द की जाएगी। मदरसा बोर्ड के रजिस्ट्रार राहुल गुप्ता ने इस बाबत कहा कि जिन मदरसों ने साइट पर अपना ब्यौरा दे दिया है, सिर्फ उन्हीं की मान्यता बरकरार रहेगी। बाकी के मदरसों पर कार्रवाई होगी। आखिरी तारीख तक कुल 32,483 शिक्षकों का डाटा आधार लिंक से अपलोड हुआ है।

SHARE