अलीगढ़ : मकान में रखे पटाखों में विस्फोट , मां और बेटी की मौत

अलीगढ़ के कस्बा जलाली में गुरुवार देर रात आतिशबाजी में हुए भीषण विस्फोट से दो मंजिला मकान जमींदोज हो गया। मलबे में दबने से मां-बेटी की मौत हो गई। पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।विस्फोट हरदुआगंज पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाले जलाली स्थित एक पटाखा व्यापारी रफीक के घर में हुआ। मृतकों की पहचान अफसरी (35) और उनकी बेटी तैय्यबा (15) के रूप में हुई है।  पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) मुख्यालय के एक अधिकारी ने कहा कि रफीक के पास पटाखों का व्यापार करने का लाइंसेंस था। लेकिन उसने अपने घर में अवैध रूप से पटाखों का भंडारण किया हुआ था।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) व पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) के साथ वरिष्ठ जिलाधिकारियों ने घटनास्थल का दौरा किया और राहत कार्यो का जायजा लिया।  विस्फोट इतना जोरदार था कि इसके कारण घर ढह गया। मलबे में से शवों को बाहर निकाल लिया गया है. हादसे में पांच लोग घायल हुए हैं, जिन्हें अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज ले जाया गया है। इनमें से दो की स्थिति गंभीर बताई जा रही है।

अलीगढ़ के हरदुआगंज इलाके में रफीक पुत्र सुल्तान का मकान है। यहां उनका आतिशबाजी का पुस्तैनी होता है। गुरुवार रात रफीक किसी काम से घर के बाहर गया था। देर रात उसके घर में भीषण विस्फोट हुआ। धमाके साथ ही उसका मकान ध्वस्त हो गया। उस समय मकान में रफीक की पत्नी अफसरी बेगम, बेटी तैयबा (15), मंतशा (12), आलिया (6), बेटा लालू थे। उसकी पत्नि और बच्चों के अलावा उनके साथ शकीला पत्नी मोहम्मद हुसैन, लालू पुत्र मोहम्मद हुसैन भी मौजूद थीं। घर के घायल सदस्यों ने बताया कि रात में घर की महिलाएं खाना बना रही थीं। अचानक तेज विस्फोट हुआ और सब तबाह हो गया। धमाका क्यों और कैसे हुआ ये किसी को नहीं पता। मकान में हजरों रुपये के पटाखे रखे थे। जिसमें आग लग गई। धमाका इतना तेज था कि कई किलोमीटर तक धमाके की आवाज पहुंची। देर रात हुए धमाके की आवाज सुनकर लोगों में अफरा तफरी मच गई। लोग घरों के बाहर निकलकर एक दूसरे से धमाके का कारण पूछने लगे। मौके पर हजारों लोगों की भीड़ जुट गई।

SHARE