बड़ा खुलासा: केंद्रीय मंत्री की मदद से संसद के पास चल रहा देह व्यापार का धंधा…

दिल्ली का रेल लाइट एरिया जीबी रोड के बारे में कौन नहीं जानता, वेश्यावृत्ति के लिए विख्यात इस इलाके में पैसों से जिस्म खरीदने का काम होता है। लेकिन अब यह काम ज्यादा दिन तक नहीं चल सकेगा, क्योंकि महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने दिल्ली के कोठों को बंद कराने के लिए कमर कस ली है। केवल इतना ही नहीं, स्वाति मालीवाल ने इस गंदे काम को चलवाने का आरोप केंद्र सरकार पर लगाया है।

स्वाति मालीवाल ने यह बयान तिहाड़ जिले में आयोजित कला उत्सव प्रोगाम के दौरान दिया। इस प्रोगाम में वह मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित थी।

मिली जानकारी ने अनुसार, स्वाति मालीवाल ने दिल्ली में स्थित कोठों को बंद करवाने की मुहीम छेड़ रखी है। इसके लिए वह पिछले कई दिनों से कार्यरत भी हैं। उनका कहना है कि वह कोठों को बंद करवाकर ही रहेंगी चाहे इसके लिए उन्हें जेल क्यों न जाना पड़े। उन्होंने जीबी रोड की तरफ इशारा करते हुए कहा कि संसद भवन से 3 किलोमीटर की दूरी पर ही यह घिनौना काम सरेआम चल रहा है और सरकार बस तमाशा देखती रहती है।

केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए स्वाति ने कहा कि एक तरफ हम समाज की ये गन्दगी साफ़ करने की कोशिश में जुटे है तो केंद्र सरकार हमारी मदद करने की जगह व्यवधान डालने में जुटा है। पिछले दिनों हमें केंद्र सरकार की ओर से कई नोटिस मिल चुके हैं जिसमें केंद्र ने कोठों के खिलाफ छेड़ी गई इस मुहीम को रोकने की बात कही। उन्होंने बताया कि हमें यह भी पता चला है कि इस काम में किसी केंद्रीय मंत्री की मदद मिल रही है। उन्होंने बताया कि जल्द ही इस केंद्रीय मंत्री का चेहरा भी बेनकाब भी कर देंगे, फिर वह चाहे कोई भी हो।
आगे पढ़ें: स्वाति मालीवाल ने पूर्व महिला आयोग की

अपने बयानों में स्वाति मालीवाल ने महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष बरखा सिंह को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि वे 8 साल महिला आयोग अध्यक्ष रहीं लेकिन क्या उन्होंने कभी जीबी रोड़ की लड़कियों की आवाज़ सुनी।

स्वाति मालीवाल ने कहा कि दिल्ली को देह व्यापार के धंधे से मुक्त करने के लिए तिहाड़ जेल से भी परहेज नहीं करेंगी। उन्होंने बताया कि वह तिहाड़ जेल की महिला कैदियों के साथ भी वक्त बिताएंगी। उन्होंने तिहाड़ जेल के डीजी से आग्रह भी किया कि वह और उनकी टीम तिहाड़ जेल में महिला कैदियों के साथ एक सप्ताह तक समय गुज़ारना चाहती हैं और उनकी दिक्कतें जानना चाहती हैं।

SHARE