डीएम शुभ्रा सक्सेना की कार्रवाई बड़े-बड़े दबंगों पर पड़ रही है भारी…

निकाय चुनाव को लेकर जिला प्रशासन का चला कार्रवाई का हंटर थमने का नाम नहीं ले रहा है। प्रशासन ने 13 और दंबगों- भूमाफियाओं को जिला बदर कर दिया गया है। उधर जिला निर्वाचन अधिकारी डीएम शुभ्रा सक्सेना ने कहा है कि निष्पक्ष और भय मुक्त वातावरण में चुनाव कराने के लिए हर स्तर पर कार्रवाई होगी। कोई अफवाह फैलाएगा या फिर आराजकता करेगा तो उस पर कड़ी कार्रवाई होगी। सोशल मीडिया पर भी प्रशासन की नजर रहेगी।

 

6 महीने के लिए किया जिला बदर

मंगलवार को जनपद के 13 भूमाफियों/अपराधियों को न्यायिक प्रक्रिया पूर्ण करते हुये आगामी 6 माह तक के लिये जिला बदर किया गया है। जिला निर्वाचन अधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने बताया कि राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार मीडिया सेल द्वारा सोशल मीडिया पर सतर्क नजर रखी जायेगी। जिलाधिकारी ने बताया कि जनसाधारण तक गलत, भ्रामक तथा सनसनी फैलाने वाली सूचनाएं सोशल मीडिया के माध्यम से वायरल की जाती हैं। जिससे कानून व्यवस्था बिगड़ने की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। इस स्थिति से निपटने के लिए निर्वाचन की संपूर्ण प्रक्रिया के दौरान नागरिकों द्वारा भेजे जाने वाले एसएमएस तथा सोशल मीडिया पर पोस्ट किये जाने वाले विभिन्न प्रकार के कन्टेन्ट जैसे फोटो, वीडियो, आडियो क्लिप अथवा मैसेज पर मीडिया सेल द्वारा विशेष निगरानी रखी जा रही है। गलत, भ्रामक और सनसनीखेज सूचना फैलाने वाले व्यक्तियों के खिलाफ निरोधात्मक कार्रवाई तत्काल अमल में लाई जायेगी।

 

धारा 144 लागू, पालन न करने पर होगी कार्रवाई

जिला मजिस्ट्रेट शुभ्रा सक्सेना ने बताया है कि नगरीय निकाय सामान्य निर्वाचन 2017 का मतदान 22 नवम्बर को तथा मतगणना 1 दिसम्बर को होना सुनिश्चित है। इस दौरान असामाजिक तत्वों द्वारा गड़बड़ी किये जाने की आशंका के दृष्टिगत जनपद में शांति व्यवस्था बनाए रखने हेतु धारा 144 लागू कर दी गई है जो कि 2 दिसंबर तक लागू रहेगी। कोई भी व्यक्ति किसी प्रकार का अग्नेयास्त्र बन्दूक, पिस्तौल, रिवाल्वर, राइफल आदि एवं नुकीले शस्त्र, धारदार शस्त्र, लाठी-डण्डा आदि लेकर सार्वजनिक स्थानों पर नहीं चलेगा। यह आदेश राजकीय कर्मचारियों को पर लागू नहीं होगें तथा जो अन्धे एवं अशक्त हैं या डण्डे का सहारा लेकर चलते हैं और सिक्ख समुदाय के वह व्यक्ति जो करौली बांधते हैं उन पर लागू नहीं होगें। डीएम ने बताया कि बिना सक्षम अधिकारी की पूर्वानुमति के किसी सार्वजनिक स्थल पर पांच से अधिक व्यक्ति एकत्रित नहीं होंगे। कोई भी व्यक्ति जनसभा, प्रचार सभा तथा जुलूस आदि सक्षम अधिकारी की पूर्व अनुमति के बिना आयोजित नहीं करेगा।
आदर्श चुनाव संहिता का किया उलंघन तो गिरेगी गाज

सार्वजनिक स्थान पर किसी प्रकार के बैनर पोस्टर, झण्डी आदि नहीं लगाई जायेगी और किसी भी दल विशेष अथवा धर्म, समप्रदाय के प्रति अमर्यादित तथा भावनाओं को भड़काने वाला भाषण नहीं देगें और न ही नारे बैनर, पोस्टर अथवा अन्य प्रकार से ऐसा करने के लिये किसी को उकसायेंगे। जिला मजिस्ट्रेट ने कहा है कि मत प्राप्त करने के लिये किसी भी प्रत्याशी द्वारा जातिगत या साम्प्रदायिक, धार्मिक भावनाओं की अपील नहीं की जाएगी न ही किसी धार्मिक प्रमुख से अपने पक्ष में मतदान करने के लिये उद्घोषणा कराई जाएगी तथा मस्जिदों, गिरजाघर, मन्दिरों या अन्य पूजा स्थलों का प्रयोग निर्वाचन अभियान के मंच के रूप में नहीं करेगें। उन्होंने कहा कि कोई प्रत्याशी ऐसे कोई पोस्टर, इस्तेहार, पम्पलेट या परिपत्र वितरित नहीं करेगा। जिस पर मुद्रक व प्रकाशक का नाम न हो तथा लाउडस्पीकर का प्रयोग रात के 10 बजे से सुबह 6 बजे तक नहीं किया जाएगा। उन्होंने सभी राजनैतिक दलों के उम्मीदवारों से कहा कि निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार जुलूस, रैली एवं सभाओं तथा वाहनों का प्रयोग सक्षम अधिकारी की अनुमति के बिना न करें। जिला मजिस्ट्रेट ने कहा कि आदेशों का उलंघन करने पर संबंधित के विरूद्ध भारतीय दण्ड विधान की धारा- 188 के अन्तर्गत कार्रवाई की जाएगी।

SHARE