मासूमों की मौत मामले में आरोपी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल पत्नी समेत गिरफ्तार

गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्राचार्य राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी पूर्णिमा को एसटीएफ ने कानपुर के साकेत नगर इलाके से मंगलवार की दोपहर गिरफ्तार कर लिया। ये दोनों वहां अपने केस के सिलसिले में विचार विमर्श के लिए पहुंचे थे। बच्चों की मौत के मामले में ये पहली गिरफ्तारी हुई है।
एसटीएफ के डीआईजी मनोज तिवारी ने इसकी पुष्टि कर दी है। गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 10 अगस्त की रात को ऑक्सिजन की सप्लाई में बाधा से बच्चों की मौत नहीं हुई, क्योंकि वैकल्पिक उपाय मौजूद थे। डॉक्टर और ऑक्सिजन सप्लायर, ऑक्सिजन खत्म होने के लिए दोषी हैं। उन्हें पता था कि इसकी वजह से मौतें हो सकती हैं।

गोरखपुर के अस्पताल में बच्चों की मौत पर यूपी सरकार की जांच रिपोर्ट का यही सार निकलकर सामने आया। गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में अगस्त के दूसरे हफ्ते में छह दिनों में 63 लोगों की मौत हो गई थी। जिनमें 10 और 11 अगस्त को ही 30 बच्चों की मौत हो गई थी। जान गंवाने वालों में नवजात बच्चे भी शामिल थे।

बाल चिकित्सा केंद्र में बच्चों की मौतों के लिए इंफेक्शन और ऑक्सीजन की सप्लाई में दिक्कत को जिम्मेदार ठहराया गया था। लेकिन अस्पताल और जिला प्रशासन ने ऑक्सीजन की कमी को मौत का कारण मानने से इनकार किया था।

SHARE