बेटे के पक्ष में बोले अमित शाह, जय ने बोफोर्स की तरह दलाली नहीं खाई

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को पहली बार अपने बेटे जय शाह की कंपनी पर उठे सवालों का जवाब दिया। अमित शाह ने कहा कि जय शाह की कंपनी ने कोई भ्रष्टाचार नहीं किया है। अमित शाह ने जय शाह पर आरोप लगाने वालों को चुनौती देते हुए कहा कि अगर उनके पास सबूत है तो वो उसे अदालत में पेश करें। समाचार वेबसाइट द वायर में प्रकाशित रिपोर्ट में दावा किया गया कि अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी टेम्पल एंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड का  कारोबार (टर्न-ओवर) नरेंद्र मोदी सरकार बनने के बाद एक साल में 50 हजार रुपये से बढ़कर करीब 80 करोड़ हो गया। हालांकि कंपनी करीब डेढ़ करोड़ रुपये घाटे में चली गयी और उसे 2016 में बंद कर दिया गया। अमित शाह निजी टीवी चैनल आज तक के कार्यक्रम में पत्रकार राहुल कंवल के सवालों का जवाब दे रहे थे।

कार्यक्रम में जय शाह के बारे में पूछे गये सवाल के जवाब में अमित शाह ने कहा, “अच्छा किया आपने ये सवाल कर दिया। मैं आपके कार्यक्रम के माध्यम से जो लोग सवाल उठा रहे हैं उन्हें पहले कुछ सवाल देना चाहता हूँ बाद में जवाब देना चाहता हूं। कांग्रेस से आजादी के बाद से आज तक कितने भ्रष्टाचार का आरोप लगा, कांग्रेस ने एक भी आपराधिक मानहानि और 100 की सिविल मानहानि का मुकदमा दायर किया है क्या? नहीं किया तो इतनी हिम्मत क्यों नहीं हुई? जय ने आज आपराधिक मानहानि और सिविल मानहानि का मुकदमा किया है, वो जाँच की माँग करें। जय ने जाँच की माँग की है। अब आपके पास जो तथ्य उसे लेकर पहुंच जाइए कोर्ट में। कोर्ट के सामने रखिए कोर्ट फैसला करेगी। हमने खुद जाँच की माँग की है।

अमित शाह ने दावा किय कि जय शाह ने सरकार से किसी तरह का लाभ नहीं लिया। अमित शाह ने कहा, “जहाँ तक कंपनी का सवाल है। कंपनी एक रुपये का व्यापार सरकार के साथ नहीं किया है, एक रुपये की सरकारी जमीन नहीं ली है, एक रुपये का सरकारी ठेका नहीं लिया है, न किसी से बोफोर्स की तरह दलाली ली है, इसलिए भ्रष्टाचार का कोई सवाल नहीं उठता।” कंपनी के टर्न-ओवर पर उठे सवाल पर अमित साह ने कहा, “जहां तक लोग कहते हैं कि टर्न-ओवर इतना हजार गुना बढ़ गया….तो कंपनी एक करोड़ का बिजनेस करेगी तो आप कहेंगे कि एक करोड़ गुना व्यापार बढ़ गया कि आप कहोगे कि एक करोड़ रुपये का टर्न-ओवर हुआ। ये शुद्ध रूप से कमोडिटी एक्सपोर्ट का बिजनेस है जिसमें टर्न-ओवर ज्यादा होता है और मुनाफा कम होता है। बाजरा, चावल, मक्का इत्यादि को एक्सपोर्ट किया है और धनिया को इम्पोर्ट किया है। और 80 करोड़ के टर्न-ओवर के बाद डेढ़ करोड़ का नुकसान हुआ तो कहाँ मनी लॉन्ड्रिंग हुई। सारा लेन-देन चेक से हुआ है, सारा लेन-देन बैंक से हुआ है, सारा लेन-देन एक्सपोर्ट का है।

SHARE