आजम खान : योगी जी ताजमहल गिराने का निर्णय लें तो हम भी देंगे सहयोग

जब से उत्तर प्रदेश में योगी सरकार आई है ताजमहल भी राजनीतिक मुद्दा बन गया है। ताजमहल लगातार चुनावी बयानबाजियों में शामिल किया जा रहा है। जहां एक तरफ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ताजमहल को भारत की पहचान मामने से इंकार कर चुके हैं तो वहीं  दुनिया के सात अजूबों में शुमार भारत की धरोहर ताजमहल को उत्तर प्रदेश सरकार ने अपनी टूरिस्ट गंतव्यों की सूची तक में जगह नहीं दी। इस पूरे विवाद पर अभी बहस चल ही रही थी कि समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान ने बीजेपी सरकार पर तंज कसते हुए गिराने तक की बात कह डाली। आजम खान व्यंग्तामक रूप से कहा है कि, एक जमाना में बात चली थी ताज महल को गिराना चाहिए। योगीजी इस तरहके निर्णय लेंगे तो हमारा सहयोग रहेगा।

उत्तर प्रदेश सरकार में पूर्व मंत्री आजम खान ने पर्यटन स्थलों की लिस्ट से ताजमहल का नाम बाहर होने पर योगी सरकार पर तंज सका है। आजम ने कहा कि ताजमहल, कुतुब मीनार, लाल किला और संसद गुलामी की निशानी हैं, यूपी सरकार ने अच्छी पहल की है। यही नहीं आजम खान ने यूपी में सत्ताधी बीजेपी सरकार के मुखिया सीएम योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि एक जमाने में बात चली थी कि ताजमहल को गिराना चाहिए, अगर योगी जी इस तरह का निर्णय लेंगे तो उन्हें हमारा भी सहयोग रहेगा। योगी सरकार ने इस मामले पर सफाई भी दी है. एक प्रेस नोट जारी करते हुए कहा गया कि प्रो-पुअर पर्यटन योजना के तहत ताजमहल और उससे जुड़े क्षेत्र के विकास के लिए 156 करोड़ रूपए का प्रस्ताव वर्ल्ड बैंक के पास प्रस्तावित हैं। इस योजना पर अगले तीन माह में स्वीकृति अपेक्षित है. इसके अलावा ताजमहल और आगरा किले के बीच शाहजहां पार्क और वॉक वे के पुनरुद्धार के लिए 22 करोड़ 66 लाख रूपए की परियोजना भी सम्मलित की गई है।

ये सारा मामला तब सामने आया जब दो टाइम्स नाउ और सीएनएन चैनल के अनुसार सरकार ने यूपी की नई ‘टूरिस्ट डेस्टिनेशन’ लिस्ट जारी की है, जिसमें ताजमहल को शामिल नहीं किया गया। सरकार की तरफ से अभी तक इस मुद्दे पर आधिकारिक बयान नहीं दिया गया है। इस बार लिस्ट में गोरखधाम मंदिर को जगह दी गई है। गोरखपुर के देवी पटन शक्ति पीठ को भी स्थान दिया गया है। इसमें गोरखधाम मंदिर का फोटो, उसका इतिहास और उसका महत्तव लिखा है। हालांकि इस विवाद से एक दिन पहले ही उत्तर प्रदेश सरकार ने विश्व बैंक के सहयोग से संचालित ”प्रो-पुअर टुरिज्म योजना” के तहत 370 करोड़ रुपए की परियोजनाएं प्रस्तावित की हैं। ताजमहल अथवा आसपास के क्षेत्र के विकास से जुड़े लगभग 156 करोड़ रुपए के कार्य भी सम्मिलित हैं। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने आज बताया कि इन परियोजनाओं में ताजमहल अथवा आसपास के क्षेत्र के विकास से जुड़े लगभग 156 करोड़ रुपए के कार्य भी सम्मिलित हैं।

SHARE